बंद करे

भूमि अभिलेख

भारत में भूमि अभिलेख सदियों से विकसित हुआ है। भारतीय शासकों और फिर अंग्रेजों के लिए भूमि राजस्व राजस्व का मुख्य स्रोत था। भूमि अभिलेखों की तैयारी और रखरखाव का वर्तमान रूप मुगल काल के दौरान हुआ था।

एक आम आदमी के अधिकारों के अपने रिकॉर्ड को समझना बहुत मुश्किल है। भ्रष्टाचार और पारदर्शिता की कमी भारत में भूमि अभिलेखों से जुड़े अन्य मुद्दे हैं। भारत सरकार ने इन समस्याओं को महसूस किया और चरणबद्ध तरीके से भारत में सभी भूमि अभिलेखों को मानकीकृत और कम्प्यूटरीकृत करने के उद्देश्य से राष्ट्रीय भूमि अभिलेख आधुनिकीकरण कार्यक्रम (एनएलआरएमपी) शुरू किया। एनएलआरएमपी के तहत सभी भूमि अभिलेख और संबंधित सेवाएं ऑनलाइन की जा रही हैं। कुछ राज्य पहले से ही अपने भूमि अभिलेखों को कम्प्यूटरीकृत कर चुके हैं जबकि कुछ प्रक्रिया में हैं।

राष्ट्रीय भूमि रिकॉर्ड्स आधुनिकीकरण कार्यक्रम (एनएलआरएमपी) अगस्त 2008 में भारत सरकार द्वारा शुरू किया गया था, जिसका लक्ष्य भूमि अभिलेखों के प्रबंधन को आधुनिकीकृत करना, भूमि / संपत्ति विवादों का दायरा कम करना, भूमि अभिलेख रखरखाव प्रणाली में पारदर्शिता बढ़ाने, और अंततः गारंटी की ओर बढ़ने की सुविधा देश में अचल संपत्तियों के लिए निर्णायक शीर्षक। कार्यक्रम के प्रमुख घटक सभी भूमि अभिलेखों के कम्प्यूटरीकरण हैं जिनमें उत्परिवर्तन, मानचित्रों का डिजिटलीकरण और पाठ्यचर्या और स्थानिक डेटा का एकीकरण, सर्वेक्षण / पुन: सर्वेक्षण और सभी

सर्वेक्षण और निपटारे के रिकॉर्ड अपडेट शामिल हैं, जहां भी आवश्यक हो, मूल कैडस्ट्रल रिकॉर्ड बनाने, कम्प्यूटरीकरण पंजीकरण और भूमि अभिलेख रखरखाव प्रणाली, कोर भू-स्थानिक सूचना प्रणाली (जीआईएस) और क्षमता निर्माण के विकास के साथ इसके एकीकरण।

झारखंड के राजस्व और भूमि सुधार विभाग ने झारखंड में भूमि अभिलेख प्रणाली को डिजिटाइज करने के लिए एमआईएस पोर्टल विकसित किया है। इस वेबसाइट के प्रमुख उद्देश्यों में से एक नागरिक को झारखंड भूमि रिकॉर्ड (खेसर, खाता) विवरण ऑनलाइन प्रदान करना है।

कृपया दी गई वेबसाइट पर जाएं: –

पर जाएँ: http://jharbhoomi.nic.in/jhrlrmsmis/

सर्व सेवा केंद्र (प्रज्ञा केंद्र )

स्थान : समाहरणायल परिसर | शहर : हज़ारीबाग | पिन कोड : 825301
फोन : 9304137829 | मोबाइल : 9830781118 | ईमेल : achazaribagh2010[at]gmail[dot]com